अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
01.13.2016


बिल्ली की दुआएँ

नया साल हो, बिल्ली मौसी,
बहुत मुबारक, चूहा बोला।

मोबाइल पर ही मौसी के,
कानों में मीठा रस घोला।

बेटे चूहे मौसीजी ने,
उसको हँसकर दिया जवाब।

तुम्हें दुआएँ तभी मिलेंगीं,
जब ख़ुद आओ मेरे पास।

अगर दुआएँ मोबाइल पर,
ही मैं तुमको दूँगी।

मेरे बेटे असर ज़रा भी,
तुम पर नहीं करेंगी।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें