अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
05.18.2016


भैयाजी को अच्छी लगती

 भैयाजी को अच्छी लगती,
पहली की हिंदी पुस्तक।
पहला पाठ खुला तो दिखता,
जन मन गण का गान।
भैयाजी को हो जाता है,
देश प्रेम का भान।

पाठ दूसरा खुला तो होती,
क ख ग घ की दस्तक।
आगे के पाठों पर होती,
ख़ास फलों की मार।
इमली दिखती आम लटकते,
दिखते लाल अनार।

पन्ना जब आगे पलटा तो,
दिखते कार मेट्रो रथ।
अंतिम पन्नों पर दिख जाते,
सूरज तारे चाँद।
उसी पाठ में बने हुए हैं,
आँख नाक और कान।

सबसे नीचे चलता दिखता,
काला एंजिन फक फक फक।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें