अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
02.26.2014


बदला

 सूरज के जुल्म से
घबराकर
पेड़ के नीचे
छुपी सिकुड़ी
सिमटी छाया ने कहा
यह मुआ पेड़
बीच में आ गया
अन्यथा मज़ा चखाती
उस दुष्ट सूरज को |


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें