अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
03.11.2016


बादल भैया ता-ता थैया

बादल भैया ता-ता थैया,
पानी के संग बरसा देना,
कम से कम दस पाँच रुपैया।

नोट नहीं सिक्के बरसाना।
एक नहीं कई बार गिराना।
तीस रुपये में हो जाएगा,
चॉकलेट का ठौर ठिकाना।

चॉकलेट की दम पर ही तो,
खेल सकेंगे चोर सिपहिया।

विनती है, दुःख सारे हर लो।
सिक्कों की बौछारें कर दो।
हम सब बालक शरण तुम्हारी,
आज हमारी झोली भर दो।

उन पैसों से ले आएंगे,
चना, कुरकुरा, गुड़ की लैया।

अगर नहीं सिक्के बरसाए,
भागे सिक्के बिना गिराये।
तो चन्दा तारों से कहकर,
हमने चाँटे सौ लगवाये।

चाँटे खाकर हाल तुम्हारा,
कैसा होगा बादल भैया।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें