अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
02.26.2014


खुशी

 "आज बहुत खुश‌ हो।"

"हाँ बेटे को नौकरी मिल गई।"

"क्या मिला?"

"वह नक्सलाइट हो गया।"

"पगार?"

"महीने भर का राशन।"

"और?"

"गारंटी, कोई नक्सलाइट परिवार पर हमला नहीं करेगा|"

"तकदीर वाले हो भाई|"


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें