अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
04.18.2009
 

चूहे लाल
प्रभाकर पाण्डेय


चूहे लाल, चूहे लाल
बन ठनकर निकले ससुराल

रास्ते में म्याऊँ मिल गई
बुरा हुआ अब उनका हाल

म्याऊँ बोली डरो नहीं तुम
बेहिचक जाओ मेरे लाल

अभी मुझे भूख नहीं है
तेरी बीबी को खा आई हूँ आज।

अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें