अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.31.2008
 

चंदा मामा, चंदा मामा
प्रभाकर पाण्डेय


चंदा मामा, चंदा मामा,
मेरे पास आओ ना,
मुझे और मेरी बहना को,
हवा में सैर कराओ ना,
चंदा मामा, चंदा मामा,
मेरे पास आओ ना।१।

कभी छोटे कभी बड़े होते,
कभी दिखते कभी छिपते,
कभी-कभी दिन में आकर,
मेरा मन बहलाओ ना,
चंदा मामा, चंदा मामा,
मेरे पास आओ ना।२।

हलवा और पूड़ी ले आना,
तारों को भी साथ ले आना,
आँखें बड़ी-बड़ी करके,
हम बच्चों को हँसाओ ना,
चंदा मामा, चंदा मामा,
मेरे पास आओ ना।३।

अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें