अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
04.03.2014


माँ

लोरी, थपकी
पल्लू, चवन्नी
दाल, छोंक
मलहम, पट्टी
डाँट, फटकार
लुकाछिपी, खिखिलाहट
चाय की भाप,
स्वेटर के फंदे,
फ़्राक की तुरपन,
धमकी, नसीहत,
समस्या का हल,
दोस्त तो कभी जासूस,
समय की घड़ी,
अगरबत्ती की खुशबू,
गुड़ और चना,
गाजर का हलवा
अचार की फाँक
जादू की पिटारी

माँ..माँ...माँ..


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें