पीताम्बर दास सराफ "रंक"

दीवान
आज फिर साथ दे
मुझे तुम से मुहब्बत है
कविता
सामने आ ज़रा