अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
01.17.2008
 
वर्ष नया आएगा
पवन शाक्य

वर्ष नया आएगा मिलने
शुभ प्रभात की वेला में

नई नई आशा की कलियाँ
फूल खिलाने मधुवन में

तेज़ प्रखर देगा हम सबको
सफल बनाने को जीवन में

कदम स्वयं ही मुड़ जाएँगे
सफलताओं के नव उपवन में

मधुर-मधुर संबंध बढ़ेंगे
सुख समृद्धि आएगी

मंगल पावन प्रीति बढ़ाने
नवल पवन लहराएगी

अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें