पारुल


दीवान

जिसे नसीब ने बख्शा उसे ..
पंख थे परवाज़ की हिम्मत...
बड़े हौले से उसने आज ...