अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
04.26.2014


बिंब बंब कविता

कवि सो गया
एक अछूता बिंब
कविता ना हो सका
बिंब ने निराशा में
उतार फेंकी अपनी
छोटी "इ" की मात्रा
और बंब हो गया॥


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें