अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
04.26.2014


आह! वो लड़की

वो लड़की
मुझे कविता सी लगी
मैंने उसे फूल भेजे
फूलदान के बिना
तो उसने कहा:
"फूलदान के बिना
क्या फूल भला?"
आह! वो लड़की
कविता सी
’लगने’ और ’होने’
का अंतर रह गई॥


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें