अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
03.22.2015


तरक्की

साहब ने स्कूल के मैदान में लगे पौधों की हालत देख कर पूछा, "मंत्रीजी! यहाँ पौधे चल जाएँगे? न चारदीवारी है ना कोई और इंतज़ाम। और आप ने वृक्षारोपण पर २ लाख रुपए लगा दिए।"

"जी सर! इन की सुरक्षा का पूरा इंतज़ाम किया गया है। इस के चारों और ४ बाय ४ की खाई खुदवा दी है ताकि इन पौधों को जानवर न खाने पाए।"

"अच्छा," साहब गुस्से में बोले, "यह खाई भी JCB से खुदवाई है जब कि मनरेगा के अनुसार यह कार्य आदमियों से करवाया जाना था?"

"जी साहब!'' कहते हुए सचिव ने एक गड्डी साहब के जेब में रख दी और साहब यह कहते हुए चुपचाप चलते बने, "काम बहुत अच्छा हो रहा है मंत्रीजी। शाबाश! ऐसे ही काम करते रहो। जल्दी तरक्की करोगे..!"


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें