अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
02.23.2015


नया वर्ष

 यह वर्ष आप के जीवन मे नव उमंग ,
नव उत्साह, नव स्फूर्ति , नव सफलता
का वर्ष हो। यही कामनाएँ है।

जैसे ही यह वाक्य मैंने एक महाशय को कहा तो वो बोले, "आप भी इसे नया वर्ष मानते है?"
मैंने कहा, "हाँ।"

"हमारा नया वर्ष चैत से चलता है। हम तो उसी से नया वर्ष मनाते है।"

"आप बहुत बढ़िया करते हैं," मैंने कहा, "मेरे लिए तो हर पल नया है। इसे नया पल कहो या नया वर्ष। क्या फर्क पड़ता है?"

"यह हमारा वर्ष नहीं है?" उन्होंने विरोध किया।

"आप सही कहते है," मैंने कहा, "आप कागजों में, कंप्यूटर में, सरकारी कामों में और यहाँ तक की जीवन इसी दिनांक और वार से काम चलता है। इन्हें हटा दीजिए। हम सब नए वर्ष को नए माह से मनाना शुरू कर देंगे।"

"यह संभव नहीं है," उन्होंने इतना ही कहा और चलते बने।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें