अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
11.16.2016


देवदासी
(कविता संग्रह - गोधड़ - 2006)
(मराठी आदिवासी कवि वाहरु सोनवणे की कविता का अनुवाद)
अनुवाद: नितिन पाटील

एक मुल्क
जहाँ भगवान के नामपर बेटियों को छोड़ देते हैं,
जैसे मुर्गी और बकरियाँ
जवान होते होते
बाजू पकड़
किसी कोने जाकर
भोग लो, कौन देखेगा?
ना घर ना दार
भगवान की बकरियाँ
देवदासी उन्हें कहते हैं


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें