अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 

नव वर्ष
निर्मल सिद्धू


सरकता जा रहा है
रफ़्ता-रफ़्ता
हाथ से
उम्र का
एक और
मुक़ाम,
       एक और साल,
                 चला आ रहा है
                         आहिस्ता - आहिस्ता
                                   सामने से
                           विधाता का
                       एक और
                  उपहार,
          एक और साल,

कोई ख़ला नहीं
     कोई शून्य नहीं,
             एक हाथ से
                   कुछ निकलता है तो
                           दूसरे में कुछ
                                  चला आता है,
                       जीवन चक्र सर्वदा
               इसी परिधि में
               घूमता
               जाता
               है ......


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें