अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
06.01.2016


होने का अहसास

होना...
सिर्फ़ कहने मात्र से ही
नहीं होता
न ही होता है
होने का अहसास,

होने के लिए तो
प्रतिदिन, प्रतिपल
दिलाना पड़ता है
होने का आभास,

ज्यों दिलाते हैं
एक-दूजे को
मीन औ’ सागर
हवा औ’ ख़ुश्बू
धरती औ’ आकाश

तब जाकर कहीं
खिलते हैं अनेक पुष्प
जिनसे महकती है फिर
रोज़ नई इक आस!

होना –
कहने से ही फ़क़त
होना नहीं होता!


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें