अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
03.15.2014


होली की सबों को हार्दिक बधाई

गीत होली के सब गुनगुनाने लगे
आई होली, नये सुर सजाने लगे

हर तरफ़ उठ रहा शोर ही शोर है
रंग का भंग संग चल रहा दौर है
बिन पिये भी क़दम लड़खड़ाने लगे

रिश्तों में घुल रहा इक नया जोश है
जिसको देखो वही आज मदहोश है
हर ख़ुशी से नयन जगमगाने लगे

रंग आकाश का शरबती हो रहा
हर बदन भींग कर मख़मली हो रहा
हाथ होली में सब फिर मिलाने लगे

मिल के सारे चलो आज वादा करें
जीयें हम प्यार से ये इरादा करें
आरज़ू के कंवल मुस्कुराने लगे।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें