अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 

ज़िन्दगी का स्वेटर
निर्मल सिद्धू


बुन रहा है बुनने वाला
ज़िन्दगी के स्वेटर
        विश्वास और किस्मत
        की सलाइयों से
        समय की ऊन से
         हालात के लच्छों से
               दिवस, माह और सालों के
               डाल रहा है फंदे
                  बनाता है भिन्न भिन्न
                  डिज़ाईन ग़मो ख़ुशी के
                          बाजूओं को देता है आकार
                          हिम्मत और हौसले का
                          आख़िर में बिखेर देता है
                          रंग ज़रा कहकशां का
              हर गले का साईज़ फिर भी
              अलग अलग होता है
              उसी पुरानी ऊन से वो मगर
              हर बार नया स्वेटर बुनता है!


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें