निर्मल गुप्त

कविता
कुर्सी और आदमी
खचाखच भरी रेलगाड़ी