अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
12.19.2014


रिश्तों की राख

रिश्तों की कुछ राख बची थी जो -
फाड़ डाली कल डायरी से वो,
उस धुएँ को भी उड़ा डाला,

जो टपक गई थी उस रोज़ -
नब्ज़ काटने से वो तुम्हारे;
धोना चाहता था वो खुशबु, जो -
बना गई नादिम तुम्हें वो,

पर बह जाता साथ में गुरूर भी मेरा,
जो बैठा है दुबक के उस दरख्त में -
जिनमें गूँज है सिसकारियों की आज भी तुम्हारे;
मेरे चश्में से दिखता नहीं अब, जो -

उसकी ज़रूरत ही क्या है?
बरसों बीत गए फिर से फूल उगाने में -
हाँ सुखा दी नमी सारी मैंने, ज़रूर वो -

ग़मगीन थी रंगीन वादों से जो तुम्हारे;
रिश्तों की कुछ राख बची थी जो -
हाँ, फाड़ डाली कल डायरी से वो!!!!


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें