नयन डी बादल

कविता
आ फिर से मिल
इश्क़ का ख़ुमार
ये परदेश की लड़कियाँ