अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
07.28.2007
 
लोग हसरत से हाथ मलते हैं
नीरज गोस्वामी

आँख से याद बन के ढलते हैं
वो जो हर साँस साथ चलते हैं

हम हैं काँटे ना कीजिए नफ़रत
हम भी फूलों के साथ पलते हैं

लुत्फ़ इसका भी पूछिए उनसे
लड़खड़ाकर के जो संभलते हैं

वक्त आने पे आखरी देखा
लोग हसरत से हाथ मलते हैं

सो गये जिन्न खो गई परियाँ
बच्चे ना इनसे अब बहलते हैं

सच की पुख़्ता ज़मीन पे चलिए
देखिए फिर कहाँ फिसलते हैं

ग़म नहीं गर कहे बुरा दुनिया
अच्छे इंसा से लोग जलते हैं

जिस्म के साथ दिल नहीं थकता
कितने अरमां अभी मचलते हैं

ज़िंदगी भर क्या दौड़ोगे नीरज
आओ कुछ देर को टहलते हैं

अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें