अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
06.30.2012


मौसम बदलने लगा

वफ़ाओं का मौसम बदलने लगा
मुक़द्दर भी अब हाथ मलने लगा

तेरी ख़्वाहिशें दिल में हसरत लिए
पलकों पे सावन मचलने लगा

मिले हादसे मुझको हर मोड़ पर
सम्भलने से पहले फिसलने लगा

तेरी याद में खो गया इस क़दर
उम्मीदों का इक दीप जलने लगा

मिलने से पहले जुदाइयों का ग़म
पल-पल दिलों में ही पलने लगा

तुझे ढूँढता हूँ मैं यूँ दर -ब- दर
पैरों का छाला भी जलने लगा

दीवाना समझ लोग यूँ डर गए
हाथों में पत्थर उछलने लगा


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें