अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 

वक़्त को रोक लो तुम
नवल किशोर कुमार


कस दो नकेल अब,
वक़्त की रफ्तार पर,
तह की बारी है अब,
वक़्त को रोक लो तुम।

बहुत हो चुकी गलतियाँ अब,
मिटाकर मुश्किलों का सर,
सवार हो किरण रथ पर,
वक़्त को रोक लो तुम।

है हौसला अभी शेष तुममें,
विश्व विजयी बनने का,
परास्त कर निज खल दल को,
वक़्त को रोक लो तुम।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें