अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
01.30.2016


पानी की दीवार

बचपन में मैंने
बड़ों के मुँह से
सुना था कि....
हमारे रिश्तों के बीच
कोई दीवार खड़ी है।

परन्तु शायद उस समय मैं
अबोध बच्चा था।
उनकी बात को
ठिठोली समझता था।
पर आज पता चला कि
हाँ, रिश्तों में कभी-कभी
कोई दीवार अपने-आप
बन जाती है।

उसमें मिट्टी चूने या फिर
ईंटों की जरूरत नहीं होती
यह दीवार होती है तो सिर्फ
पानी की दीवार होती है।
शुद्ध पानी की दीवार
जो बिल्कुल साफ होती है।
जिसके उस तरफ की
हरी-भरी दुनिया
दिखाई तो देती है मगर
उस तरफ जाना कठिन होता है
क्योंकि बीच में ये दीवार होती है।

दीवार की ऊँचाई असीमित
गहराई की सीमा नहीं
इसीलिए चाह कर भी
इसे पार करना कठिन होता है।
और वो ख़ुशियाँ
दीवार के उस पार से,
बस निहारती रहती हैं।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें