अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
01.30.2016


हृदय के विचार

 आज मेरी सीमाओं का
बाँध सा टूटा जाता है।
उफन-उफन कर यूँ समुद्र
लहरों में बिखर जाता है।

इसके साथ में आने वाले
लाखों शंख अगिनत सीपी
धूमिल होकर आँखों आगे
अँधेरा-सा छा जाता है।
उफन-उफन कर यूँ समुद्र
लहरों में बिखर जाता है।

नीले आसमान की भाँति
मन नदी में बढ़ कर पानी
किनारों के ऊपर चढ़ जाए
किनारा पक्का टूट जाता है।
उफन-उफन कर यूँ समुद्र
लहरों में बिखर जाता है।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें