अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
06.01.2016


कीड़े

जब कीड़े घुस जाएँ फल में
क्षीण हो जाता है उसका मूल्य
और जो मूल्यहीन है
फेंक दिया जाता है बाज़ार में।

हमने देर लगा दी
नष्ट होते हुए को देखने में
नाव में कब सुराख़ हुआ
मालूम ही नहीं पड़ा।

अपनी चलनी को बचाकर रखना है
तभी घुलेगी आटे की मिठास जीभ पर
ज़ख़्म हुए तो पाँव में वेदना की चुभन
और निहायत ज़रूरी है
लोहे के बक्से तक को मज़बूत रखना
मधुमक्खी अपने डंक लेकर-
हमेशा सावधान है
सावधान है वह भीड़
जो बार-बार तालियाँ बजा रही
लेकिन उतने सावधान नहीं
इसे सुनने वाले लोग
कीड़े अपना स्वभाव कभी नहीं छोड़ेंगे।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें