अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
10.11.2017


एक का पहाड़ा

एक एकम एक।
सदा बनो नेक॥

एक दूनी दो।
सबको सहारा दो॥

एक तिया तीन।
कुछ न कभी छीन॥

एक चौके चार।
सबसे करो प्यार॥

एक पंचे पाँच।
सच को नहीं आँच॥

एक छक्के छह।
लालच बुरा है॥

एक सत्ते सात।
हौसला सदा रखो साथ॥

एक अठ्ठे आठ।
मेहनत करो न देखो बाट॥

एक नवाम नो।
निराश कभी न हों॥

एक दहाम दस।
मन पर लगाम कस॥


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें