नन्दलाल भारती


कविता

समभाव
सुबह