मुरारी गुप्ता

कहानी
कमाऊ पूत
कुंभ का वनवास
ख़्वाब
सुनयना
कविता
तलाश आत्मा की
मेरे भीतर, मेरे अंतर्मन में