अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख पृष्ठ
04.29.2012

ईद का मेला
 

ईद के मेले में
खिलौनों की दुकान तो थी
पर इस बार
मिट्टी का सिपाही
अपनी बंदूक के साथ गायब था
और मिट्टी का भिश्ती भी
अपनी मशक के साथ वहाँ नहीं था
लिहाज़ा दुकानदार
प्लास्टिक के नेता, बंदूक और तोप
लेकर हाज़िर था
हामिद के एक दोस्त ने
बंदूक खरीदी वह लादेन बनना चाहता था
और दूसरे ने नेता का पुतला खरीदा
वह प्रधानमंत्री बनना चाहता था
पर हामिद तो अभी तक
लोहे का चिमटा ढूँढ रहा था
ताकि उसकी बूढ़ी माँ की
काँपती उंगलियाँ
आग में न जलें


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें