अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.31.2008
 
पहली नज़र में हमको, अपना सा लगा वो
मुकेश कुमार मासूम


पहली नज़र में हमको, अपना सा लगा वो।
सच पूछिये तो जाने क्यों, सपना सा लगा वो।

जब तक रहा वो सामन, बस जीते रहे हम,
वो चल पड़ा तो क्या कहें, मरना सा लगा वो।

हँसना तो उसका जैसे, पर्वत की गोद में,
मदमस्त लय से बहता, झरना सा लगा वो।

लफ़्जों की हद में बाँधना, मुमकिन नहीं उसे,
गंगा सा लगा वो, हमें जमना सा लगा वो।

हुस्न का सरताज, और हमदर्द, हमसफ़र,
साहिर, ग़ालिब और हसरत की रचना सा लगा वो।

’मासूम’ उस ख़ुदा को, देखने के बाद,
जिसको भी देखा सरकसम, अदना सा लगा वो।

अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें