मुकुन्द ध्यानी


कविता

तम के बढ़ते साये
धरती माँ
फिर आयो मधुमास
बुढ़ापा
हम आज़ाद हैं आज