मोहन जीत तन्हा

दीवान
यही मेरी मुहब्बत का सिला है