अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.31.2008
 
तुम्हारे चित्र
मीना जैन


तुम्हारे चित्र
बोलते ही नहीं
गीत सुनाते हैं
तूलिका के रंग
धुन बन
कानों में गुनगुनाते हैं
चित्रों की
भाव- भाषा
अनकहे शब्द कह जाते हैं
खो जाती मैं
इंद्रधनुषी जगत में
कल्पना के सौ-सौ पंख लग जाते हैं
चित्रों में वर्णित
कथा नायक
अपने ही घर से आते हैं
निहार एकटक
कलाकृति अनुपम
ठगे से हम रह जाते हैं
अनुरंजित छवि
लालित्य जगाती
हम प्रबुद्ध प्रशंसक बन जाते हैं
चित्रों का सौंदर्य
समा जाये जग में
हृदय में यही विचार आ जाते हैं।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें