अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
10.29.2007
 
प्रकाश पर्व पर
मीना जैन

दीपावली का पावन पर्व
जगमगा रहीं दीपमालाएँ
हर अँधियारे कोने में
आज अतुल आलोक फैलाएँ

हो तम विनाश, फैले प्रकाश
अंतर-बाहर हो उजियारा
ऐसा दीप जलाओ आज
उजला-उजला हो जग सारा

ज्योति पर्व पर मिलकर
सद्भावना की ज्योति जलाएँ

महावीर निर्वाण दिवस पर
सत्य-अहिंसा का व्रत लो
उपदेशों का उज्ज्वल प्रकाश
अपने जीवन में भर लो

प्रकाश-पर्व पर करें प्रकाशित
सभी के लिये शुभकामनाएँ ।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें