अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 

उन्मुक्त
मीना चोपड़ा


कलम ने उठकर
चुपके से कोरे कागज़ से कुछ कहा

और मैं स्याही बनकर बह चली
           मधुर स्वछ्न्द गीत गुनगुनाती,
                     उड़ते पत्तों की नसों में लहलहाती।

उल्लासित जोशीले से
ये चल पड़े हवाओं पर
अपनी कहानियाँ लिखने।

           सितारों की धूल
                      इन्हें सहलाती रही।

कलम मन ही मन
             मुस्कुराती रही
                       गीत गाती रही।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें