अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 

शो-विण्डो
मीना चोपड़ा


मेनेक्विन्स की भीड़ –
कुछ पिघलते जिस्मों का पानी
                       उभरता है
                       एक शोर
                       खो जाते हैं जिसमें
                  अतीत के गुच्छे
           साँसों की रस्सी में बँधकर जो
     ज़िंदगी की शो-विण्डो
में सजा करते थे।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें