अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 

जीवन गाथा
मीना चोपड़ा


उठती हैं
गिरती हैं
दर्पण हैं साँसें
प्रतिबिम्बों को
जन्म देती हैं।

प्रतिबिम्ब, जो कई
चिह्न बना देते हैं
दाग देते हैं प्रश्न
कई दायरों पर
लिख देते हैं दायरे
कई सीनों पर

छप जाती है
समय के पन्नों पर
जीवन गाथा।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें