अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 

धुँध के मिटते चेहरे
मीना चोपड़ा


लटकती रही आँखों के किनारों से
        बादलों में छिपी बूँद की
                  वह हल्की सी नमी
                        छूट कर जा गिरी फिर
                  पैरों पर बँधी पायल की
       छ्नक के बीच कहीं छ्नछ्नाती सी
एक मिटती झनकार के
              सुरों को सजाती सी।

तैरता रहा, तस्सवुर
        अतीत की मिट्टी में लिपटा
                 इन छ्नछनाहटों को एड़ियों में पहने,
                        देखता रहा मुसलसल,
                               सपनों की अनगिनित कड़ियों को जोड़े
                     धुँध में लिपटे हुए
                                धुँध के मिटते चहरे।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें