अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 

धुआँ
मीना चोपड़ा


उठता है
मिट्टी के अन्तःकरण से
वह धुआँ धुआँ
क्यों है।

मिट्टी जो मेरी
हथेली से लगकर
बदल जाती थी
एक ऐसे क्षण में
जिसका न कोई आदि था
न ही अन्त।

उसी मिट्टी से जो
उठता है आज
वह धुआँ क्यों है।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें