अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 

चाह — ?
मीना चोपड़ा


रात के पानी में
बहती नदी के किनारे
घुल रहे थे।
इसे अमृत मानकर
हाथों में भरकर
घूँट घूँट पिया मैंने।

’मैं’ को उतारकर
’तुम’ को पहन लिया मैंने।

अपने अस्तित्व की झोली में
गुनाहों का शगुन रखकर
रुह के दरगाह को अर्पित
हो गई थी मैं।

शायद तुम भी — ?
कुछ पलों के लिए ही सही!

कैसा संयोग था यह।
कौन सा भोग?
किसकी इबादत?
सिजदा किसको?
खोज कैसी?
कैसा सपना?

चाह किसकी — ?
जो न मिटी न ही बुझी कभी!


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें