अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
04.11.2009
 

कहाँ
बी मरियम ख़ान


पैदा हुए कहाँ
पले-बढ़े कहाँ
सँभाला होश कहाँ
जवां हुए कहाँ
नौकर हुए कहाँ
शादी हुई कहाँ
जाकर बसे कहाँ
न जाने मरें कहाँ?
और दफ़न हों कहाँ
यही कहाँ कहाँ, है दस्तूर-ए-जहां
कहते हैं जिसे, ज़िन्दगी की दास्तां

अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें