बी मरियम ख़ान


कविता

कब से रही पुकार
जब याद मुझे हो आता है
बिन पात बिन शूल
याद तुम्हारी आई
लहू का रंग एक है