अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 

हो शुभ बहुत ये साल नया
मानोषी चैटर्जी


हो शुभ बहुत ये साल नया
वो बीत गया जो साल गया
मुंडेर की ओट से हाथ हिलाता
पीछे छूटा जो साल गया
हो शुभ बहुत ये साल नया

दुख का दरिया पार किया और
खुशी के भी दो सीप चुने
दो पल खुशियाँ, ढेरों आँसू
हो कर मालामाल गया
गुज़र गया जो साल गया

कई सपने टूटे शाखों पर
कई रातें बीती आहें भर
माथे की सिलवट, सूजी आँखें
ले कर अपना हाल गया
गुज़र गया जो साल गया

पूरा हो हर स्वप्न सुहाना
सच्चा हो अब ख्वाब पुराना
नये जहाँ में नयी उमंग से
बनेगा अब चौपाल नया
वो बीत गया जो साल गया
हो शुभ बहुत ये साल नया


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें