मनोज यादव

कविता
तेरा चेहरा नज़र आये
हँसना झूठी बातों पर
हमको सपने सजाना ज़रूरी लगा