मनोज कुमार शुक्ल "मनोज"

कहानी
रोपवे
कविता
पानी की बूँदें कहें (दोहे)
फागुन के दिन आ गये
फागुन के स्वर गूँज उठे.....
मधुमास है छाया चलो प्रिये.....
मन भावन ऋतुराज है आया .....
समीक्षा
संवेदनाओं के स्वर: एक परिचय (सनातन कुमार बाजपेयी सनातन)
"संवेदनाओं के स्वर " एक मूल्यांकन (डॉ. विजय तिवारी किसलय)