अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
02.21.2016


चिड़िया रानी

चिड़िया रानी चिड़िया रानी
हम सबको हैं ख़ूब सिखाती
सुबह-सुबह मेरे आँगन में
आकर हमको गीत सुनाती।

चिड़िया रानी चिड़िया रानी
फुदक-फुदक कर दाना खाती
तरह-तरह के रंगों वाली
हम सब के मन को बहलाती।

चिड़िया रानी चिड़िया रानी
मेहनत करना हमें सिखाती
तिनका-तिनका बीन-बीन कर
अपना घर ख़ुद ही हैं, बनाती।

चिड़िया रानी चिड़िया रानी
कितनी सुंदर कितनी प्यारी
सुबह जागकर हमें जगाती
मिलजुल कर रहना सिखलाती।

चिड़िया रानी चिड़िया रानी
हम बच्चों को लगती प्यारी।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें